BDS Course Kya Hai | BDS Course Kaise Kare बीडीएस कोर्स करने के लिए क्या करना चाहिए? (What should I do to do BDS Course) बीडीएस कोर्स कैसे करें? हिंदी में (How to do BDS Course In Hindi) – नमस्कार दोस्तों, इस लेख में हम बीडीएस कोर्स कैसे करें? से जुड़ी जानकारी देने जा रहे है. अगर और ज्यादा  जानकारी या या Adimission की जानकारी या कॉलेज के जानकारी तो आप हमे ईमेल कर सकते है या Call 9161126500 कर सकते है |

Join us on Telegram

जैसा की इस लेख में जानेंगे बीडीएस क्या है? बीडीएस कोर्स कैसे करें? इसके लिए क्या योग्यता (Eligibility) होनी चाहिए? साथ ही इसके विषय (Subject) तथा फीस (Fees) कितनी है. इसके अलावा इसके फायदे (Benefit) तथा जॉब स्कोप (Job Scope) क्या हैं? साथ ही उनकी सैलरी कितनी होती है. इससे संबंधित जानकारी से रूबरू कराने वाले है.

अगर आप भी बीडीएस कोर्स (BDS Course) करने की सोच रहे हैं, या बीडीएस कोर्स करके डेंटिस्ट्री चिकित्सा क्षेत्र में करियर बनाना चाहते हैं, तो आप बिल्कुल सही जगह पर आए हैं|

क्योंकि इस लेख में हम आपको BDS Course Kya Hai | BDS Course Kaise Kare इसकी पूरी जानकारी बताने जा रहे है, तो इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें –

दोस्तों, अगर आप 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात मेडिकल के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं, तो यह आपके लिए बेहतरीन विकल्प है. क्योंकि मैंने अक्षर युवा को देखा है कि वे ग्रेजुएशन पूरा करने के पश्चात करियर के बारे में सोचते हैं. लेकिन कुछ छात्र ऐसे होते हैं, जो 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद अपना करियर बनाने की सोचते हैं. और एक अच्छा डॉक्टर बनने का सपना देखते हैं.

अगर आप भी उनमें से एक हैं. और बीडीएस कोर्स करके डेंटिस्ट्री चिकित्सा क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते है, तो यह लेख आपके लिए उपयोगी साबित होने वाला है.

तो दोस्तों चलिए अधिक समय ना लेते हुए आगे बढ़ते हैं, और जानते हैं, BDS क्या है? बीडीएस कोर्स (BDS Course) कैसे करें? इसके लिए क्या क्वालिफिकेशन (Qualification) होनी चाहिए? इससे जुड़ी जानकारी बताने जा रहे है.

बीडीएस फुल फॉर्म (BDS Full Form English & Hindi)

English – Bachelor of Dental Surgery
Hindi – बैचलर ऑफ डेंटल सर्जरी /दंत शल्य चिकित्सा स्नातक

BDS कोर्स क्या है? (What is BDS Course In Hindi)

यदि हम बीडीएस कोर्स (BDS Course) की बात करे, तो BDS को “बैचलर ऑफ डेंटल सर्जरी (Bachelor of Dental Surgery)” तथा हिंदी में “दंत शल्य चिकित्सा स्नातक” भी कहा जाता है. और यह अंडरग्रेजुएट डिग्री कोर्स है. जो 4-5 वर्ष का होता है. जीसमें इंटर्नशिप भी शामिल होती है.

और साथ ही बीडीएस कोर्स दंत चिकित्सा से संबंधित डिग्री कोर्स है. जिसमे दंत चिकित्सा के बारे में सारी जानकारी सिखाई जाती है. और बैचलर ऑफ-डेंटल सर्जरी एमबीबीएस (MBBS) के बाद मेडिकल साइंस में सबसे अधिक मांगी जाने वाली डिग्री है. जो दंत चिकित्सक बनने में सक्षम बनाती है.

जिसे आप 12वीं कक्षा की पढ़ाई पूरी करने के बाद कर सकते हैं. और इस बीडीएस कोर्स में आपको दांतों से जुड़ी तमाम बीमारियों के बारे में बताया जाता है. और साथ ही इसके सभी इलाज कैसे किया जाते है, यह सभी सिखाया जाता है. जिसके लिए आपको एक वर्ष का प्रशिक्षण दिया जाता है.

BDS Kaise kare

बीडीएस कोर्स करने के लिए उम्मीदवार को PCM सब्जेक्ट से 12th पास होना चाहिए। इसके बाद आपको NEET एग्जाम क्वालीफाई करना पड़ता है। अगर नीट में आपके ठीक मार्क्स आ जाते हैं तो आप गवर्नमेंट कॉलेज से BDS कोर्स कर सकते हैं। जो स्टूडेंडस 12वीं कर रहे हैं, वे भी NEET Exam दे सकते हैं। यह एग्जाम प्रत्येक बर्ष आयोजित की जाती है। हालांकि कुछ साल पहले बिना नीट के ही BDS में एडमिशन मिल जाता था। लेकिन अब नीट अनिवार्य है।

बीडीएस, एमबीबीएस और बीएएमएस इन मेडिकल कोर्स को करने के लिए नीट एग्जाम बहुत जरूरी होता है। लेकिन नीट को पास करना भी इतना आसान काम नही है, जितना कि आपको लगता है। इसके लिए आपको काफी मेहनत करनी होगी। अगर आपको BDS Course करना है तो आप 10वीं या 11वीं से ही इसकी तैयारी शुरू कर दें। जिससे कि आपको NEET Exam की तैयारी करने के लिए पर्याप्त समय भी मिल जाएगा।

आजकल तो काफी ऐसे कोचिंग संस्थान हैं जोकीं आपको 10वीं या 12वीं क्लास की कोचिंग के साथ ही NEET Exam की भी तैयारी करवाते हैं, आप इन कोचिंग सेंटर्स से कोचिंग भी कर सकते हैं। कोचिंग करने से आपको नीट का एग्जाम पास करने में मदद मिलेगी, क्योंकि इन कोचिंग सेंटर्स में काफी अच्छे टीचर्स होते हैं, जोकीं आपकी इस तरह से तैयारी करवाते हैं, कि आपका नीट एग्जाम क्रैक हो जाये।

BDS Course Duration in Hindi

इस कोर्स की कुल अवधि 5 बर्ष होती है। इसमे 4 साल तक आपको कॉलेज में स्टडी करनी होती है और 1 साल आपको dental Hospital में Enternship करनी पड़ती है। इस तरह से इसकी कुल अवधि 5 साल हो जाती है।

बीडीएस की डिग्री को डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया (डीसीआई) के द्वारा रेगुलेट किया जाता है। BDS में पढ़ाए जाने वाले विभिन्न विषयों में डेंटल, ओरल पैथोलॉजी, ओरल, सर्जरी हिस्टोलॉजी आदि डेंटल से संबंधित सब्जेक्ट शामिल होते हैं।

बीडीएस कोर्स को करने के बाद में छात्रों को डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया (DCI) में खुद को पंजीकृत करना भी आवश्यक होता है, जिसके द्वारा बीडीएस पाठ्यक्रम को नियंत्रित किया जाता है। जिससे कि वे अपनी डिग्री पूरी करने के बाद में dental Practice करने के योग्य बन सकें।

Fees Of BDS in Hindi

वर्तमान आंकड़ों की माने तो, भारत में लगभग 300 से ज्यादा मौजूदा समय मे डेंटल कॉलेज हैं, जिसके हिसाब से सरकारी और निजी दोनों कॉलेजों में कुल 2600 के आसपास सीटें हैं। इसकी फीस भारत में 4 से 10 लाख के बीच होती है, लेकिन सरकारी कॉलेजों में काफी कम फीस होती है।

BDS Doctor Salary in India

इस कोर्स में इंटर्नशिप के दौरान ही छात्रों को लगभग 15,000 – 20,000 का मासिक वेतन प्राप्त हो सकता है जो पूरी तरह से कॉलेज पर भी निर्भर करता है। बीडीएस की पढ़ाई पूरी करने के बाद आप सरकारी क्षेत्रों और प्राइवेट हॉस्पिटलस में दांत के डॉक्टर के तौर पर जॉब कर सकते हैं। जंहा पर आप 40 से 70 हजार तक सैलरी पा सकते हैं। अच्छा अनुभव होने के बाद में आप लाखों रुपए की सैलरी पा सकते हैं।

Career Scope in BDS

बीडीएस के फील्ड में कैरियर स्कोप काफी अच्छा है। क्योंकि यह एक डेंटल कोर्स है, जिसके बाद में आप दांतों के डॉक्टर बनते हैं। जिस तरह से हमारे देश की जनसंख्या बढ़ रही है, उसी तरह से दांतो के मरीजों की संख्या भी बढ़ रही है। जिसकी वजह से BDS का स्कोप बाद रहा है।

आज के समय मे इतने ज्यादा डेंटल हॉस्पिटल हो चुके हैं, जंहा पर आपको आसानी से जॉब मिल सकती है। सरकारी जॉब भी समय-समय पर निकलती रहती हैं, जिनमे अप्लाई करके आप सरकारी दांतों के डॉक्टर बन सकते हैं। अगर आप जॉब नही करना चाहते हैं तो अनुभव हासिल करने के बाद खुद का भी हॉस्पिटल खोल सकते हैं।

आज के समय में दांतों के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। जिस वजह से डेंटल डॉक्टर का काम भी बढ़ रहा है। इसी वजह से काफी ज्यादा dental hospital भी खुल रहे हैं। आप के पास में कोर्स के बाद दो ऑप्शन होते हैं। पहला तो ये कि आप BDS के बाद में जॉब करें या फिर अपना क्लीनिक चला सकते हैं।

BDS Course Ke Fayde

बीडीएस करने का सबसे अच्छा और बड़ा फायदा ये है, कि ये काफी ग्रोइंग फील्ड है। कोर्स करने के बाद आप बेरोजगार नही रहते हैं। जॉब नही करना चाहते हैं तो खुद का भी Dental Clinic स्टार्ट कर सकते हैं।

बीडीएस के बाद आप अपने नाम के आगे डॉक्टर लिख सकते हैं।

इसमें स्कोप काफी अच्छा है।

पैसे कमाने के साथ ही लोगों की सेवा करने का भी अवसर मिलता है।

इसको करने के बाद आपको नौकरी के लिए भटकना नही पड़ता है।

बीडीएस करने के बाद आप डॉक्टर बन जाते हैं, जोकीं काफी सम्मनजनक प्रोफेशन होता है।

BDS ke baad kya kare

बीडीएस करने के बाद आप डेंटल डॉक्टर के तौर पर किसी भी हॉस्पिटल में डेंटल डॉक्टर के तौर पर जॉब कर सकते हैं, या चाहें तो खुद की भी प्रैक्टिस कर सकते हैं। इसके अलावा आप बीडीएस के बाद में MDS भी कर सकते हैं, जिसके बाद आप किसी भी एक स्पेसिफिक डेंटल सर्जन बन सकते हैं या आप टीचिंग और रीसर्च के फील्ड में भी जा सकते हैं।

BDS College in India

किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी लखनऊ

मौलाना आजाद कॉलेज ऑफ डेंटल साइंस दिल्ली

श्री बांके बिहारी डेंटल कॉलेज गाजियाबाद

इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस बाराणसी

मानसरोवर कॉलेज ऑफ डेंटल साइंस भोपाल

गवर्नमेंट डेंटल कॉलेज एंड हॉस्पिटल मुम्बई

मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस मणिपाल, आदि

तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी मुरादाबाद

श्रीराममूर्ति मेडिकल कॉलेज बरेली

इरा मेडिकल कॉलेज लखनऊ, आदि

उम्मीद है कि BDS Course kya hai और BDS kaise kare ये पोस्ट आपको पसन्द आयी होगी। क्योंकि यंहा पर बीडीएस से संबंधित हर जानकारी डिटेल में दी गई है, जोकीं आपके लिए बहुत ही यूजफुल साबित होगी।

Related Post :

MBBS Course News: अगर आप भी विदेश में करना चाहते है MBBS कोर्स, तो अब नहीं देनी पड़ेगी कोई भी फीस आइए जाने – Click Here

Be Education.com का निर्माण केवल छात्र को शिक्षा (Educational) क्षेत्र से सम्बन्धित जानकारी उपलब्ध करने के लिए किया गया है, तथा इस पर उपलब्ध पुस्तक/Notes/PDF Material/Books का मालिक Be Education.com नहीं है, न ही बनाया और न ही स्कैन किया है। हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material प्रदान करते हैं। यदि किसी भी तरह से यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो कृपया हमें Mail करें Be Education@gmail.com पर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *